CM धामी ने अस्पताल में भर्ती श्रमिकों से मिलकर जाना उनका हाल-चाल, 1-1 लाख का चेक भी सौंपा

punjabkesari.in Wednesday, Nov 29, 2023 - 02:34 PM (IST)

 

उत्तरकाशीः उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को चिन्यालीसौड़ अस्पताल में भर्ती श्रमिकों से मिलकर उनका हालचाल जाना और उन्हें एक-एक लाख रू की प्रोत्साहन राशि का चेक सौंपा। केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न एजेंसियों द्वारा लगातार युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के 17वें दिन मंगलवार रात सिलक्यारा सुरंग में फंसे सभी 41 श्रमिकों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया था।

श्रमिकों को बाहर निकाले जाने के बाद उन्हें सिलक्यारा से 30 किलोमीटर दूर चिन्यालीसौड़ अस्पताल में बनाए गए 41 बिस्तरों के विशेष वार्ड में ले जाया गया, जहां उन्हें चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है। सभी श्रमिक स्वस्थ हैं और उन्हें आगे की जांच के लिए एम्स ऋषिकेश ले जाया जा रहा है। वार्ड के दौरे के दौरान मुख्यमंत्री ने एक-एक करके सभी श्रमिकों से उनका हाल-चाल जाना और पीठ थपथपाकर उनका हौसला बढ़ाया। इस दौरान कई श्रमिकों ने बिस्तर से उठकर उनके चरण स्पर्श किए तथा उनका आभार जताया। एक श्रमिक ने अपने मोबाइल फोन से मुख्यमंत्री के साथ सेल्फी भी ली। इस दौरान एक श्रमिक ने मुख्यमंत्री की अपने परिजन से बात भी करवाई, जिसमें उन्होंने उन्हें भरोसा दिलाया कि उनका प्रियजन सुरक्षित है और एक-दो दिन में वह उनके पास पहुंच जाएगा। केंद्र के बाहर आकर उन्होंने श्रमिकों के परिजनों से भी बात की और पूछा कि उन्हें भोजन आदि की कहीं कोई समस्या तो नहीं है। बाद में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि सभी श्रमिकों को डॉक्टरों की सलाह पर 24 घंटे की चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है। उन्होंने कहा कि सभी लोग स्वस्थ और प्रसन्न हैं लेकिन डॉक्टरों के परामर्श पर उन्हें जांच के लिए एम्स ऋषिकेश भेजा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी श्रमिक उन्हें बाहर निकालने में प्रयास करने वाले लोगों और एजेंसियों का धन्यवाद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लगातार बचाव अभियान पर विशेष ध्यान बना रहा और वह माता-पिता की तरह श्रमिकों की चिंता करते रहे, इसके लिए श्रमिकों ने उनका भी आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि इस बचाव अभियान में दुनिया के सबसे अच्छे प्रयास किए गए। मुख्यमंत्री ने श्रमिकों से मुलाकात के दौरान उन्हें एक-एक लाख रू की प्रोत्साहन राशि के चेक भी सौंपे। इस संबंध में उन्होंने कहा कि सुरंग में फंसे रहने के दौरान 16 दिनों तक उन्होंने हिम्मत बनाए रखी और साथ ही उन्हें बाहर निकालने का प्रयास कर रहे लोगों का भी हौसला बढ़ाया और इसी लिए उन्हें प्रोत्साहन राशि दी गई है। बाहर खड़े श्रमिकों के परिजनों ने भी राज्य सरकार द्वारा बचाव अभियान के साथ ही उनके लिए की गई व्यवस्थाओं पर खुशी जताई। 12 नवंबर को चारधाम यात्रा मार्ग पर बन रही साढ़े चार किलोमीटर लंबी सुरंग का एक हिस्सा ढह जाने से मलबे के दूसरी ओर 41 श्रमिक फंस गए थे, जो युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के बाद मंगलवार को सकुशल बाहर निकाले गए।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Recommended News

Related News